what is SEO in hindi
Digital Marketing

What is SEO in Hindi?

अगर आप सच मै SEO क्या है ? ये जानना चाहते है, तो आपको ये आर्टिकल को पूरा पढ़ना होगा! मै आपको इस आर्टिकल के जरिये पूरी SEO की जानकारी देना चाहता हु SEO होता क्या है, ये कैसे काम करता है इसके क्या फायदे है!

तो चलते है आज के टॉपिक पर What is SEO in hindi, SEO को अगर समझे तो अपने SEO के बारे मै जानने के लिए सर्च किया है आपके सामने बहुत सारे रिजल्ट सामने आये है जिसमे से अपने इस वेबसाइट को ओपन किया  है अगर ये वेबसाइट दिखती ही नहीं तो ओपन कहा से करते ये होता है SEO!

 बात यही ख़तम नहीं होती है आप SEO को  चार लाइन मै ख़तम नहीं कर सकते है! अब साधारण बात करे आपको एक शर्ट खरीदना है, अपने सर्च इंजन पर सर्च किया आपको जो रिजल्ट मिले वो पूरा एक पेज है जिसे सर्च इंजन रिजल्ट पेज कहते है

 अब आप सोच रहे होंगे ये क्या नया नाम है चौकिये मत  मेने ये सोचकर ही ये ब्लॉग लिखा है की में आपको पूरी जानकारी दूँगा

 जो शर्ट अपने सर्च किया है आपने सबसे पहला रिजल्ट ओपन  किया और आपने परचेस कर लिया उस वेबसाइट का फ़र्स्ट पेज पे होना और फ़र्स्ट रिजल्ट पे आने के लिए जो प्रोसेस की गयी है वही है SEO!

आप @Praveen_Ratlami वेबपेज पर यह पोस्ट What is SEO in Hindi में पढ़ रहे है

SEO क्या है? What is Search Engine Optimization (SEO) in Hindi?

अब तक आप ये तो समझ गए होंगे की SEO क्या होता है अब कुछ और बात जान लेते है की SEO क्या है?

वेबसाइट के बारे में तो आप जानते ही होंगे अगर नहीं जानते तो चलिए आसान से शब्दों में पहले वेबसाइट के बारे में समझते है 

मान लेते है आपकी एक वेबसाइट है जो की सर्च इंजन पर है लेकिन वह आपको दिख नहीं रही है अब आप चाहते है की आपकी वेबसाइट कोई सर्च करे तो वो दिखाई दे उसके लिए आपको जो प्रोसेस करनी है वो कहलाता है 

जैसा की आप जानते है की ९०% लोग  इंटरनेट का उपयोग कुछ ना कुछ सर्च करने के लिए करता है और इंडिया की माने तो सर्च करने के लिए गूगल सर्च इंजन का उपयोग करते है इसका मतलब आपको SEO को गूगल के हिसाब से करना होगा 

वैसे ये कहा जा सकता है, गूगल मतलब की SEO! क्योंकि लोगो ने SEO को गूगल के आने के बाद ही सही मायने में समझा है और जान पाए है

अब टेक्निकल टर्म में SEO को जानते है आप सर्च इंजन पर गए और अपने कुछ टाइप किया वो कहलाता है कीवर्ड! उस कीवर्ड से जो रिजल्ट शो हुए है वो सिर्फ दो तरीके से ही शो हो सकते है पहला है SEO और दूसरा है SEM! तो पहले SEO को अच्छे से समझ लेते है उसके बाद SEM को समझेंगे!

किसी  ने  भी अगर वेबसाइट बनाई  है इसका मतलब यही है की वो लोगो तक अपनी बात या अपना बिज़नेस पहुँचाना चाहता है और SEO ही उस वेबसाइट की रैंकिंग increase करने में सहायता करता है!

अब आपको ये समझना होगा की वेबसाइट का बनना और उसे लोगो तक पहुँचना दोनों ही अलग है वेबसाइट बनाने का क्या फायदा अगर वह लोगो के सामने ही न आये! 

किसी भी प्रकार की वेबसाइट दो तरह से बनाई जाती है पहला आता है कोडिंग जिसके लिए हमें वेबसाइट डेवलपर की जरुरत होती है और दूसरा तरीका है वर्डप्रेस ये एक आसान तरीका है इसमें आपको कोडिंग की जरुरत नहीं होती सारा काम प्लग इन और ऑटोमेशन के जरिये आसानी से हो जाता है 

पैसा कमाना है तो ट्रैफिक का वेबसाइट पर आना जरूरी ये तो वही बात है की दुकान खुल गयी लेकिन कस्टमर नहीं है वैसे ही जितनी भीड़ उतना ज्यादा पैसा!

आप @Praveen_Ratlami वेबपेज पर यह पोस्ट What is SEO in Hindi में पढ़ रहे है!

SEO करने के लिए क्या क्या चाहिए

  1. Domain and Hosting: SEO शुरू करने के लिए सबसे पहले आपको एक डोमेन और होस्टिंग की जरुरत होती है अगर डोमेन को आसान भाषा में कहे तो आपका एक ऑनलाइन नाम जो की आपके बिज़नेस या ब्लॉग को सर्च इंजन पर रिप्रेजेंट करता है अब आती है होस्टिंग ये आपके वेबसाइट के डाटा का ऑनलाइन स्टोरेज होता है या कहे तो आपका एक बिज़नेस प्लाट!
  2. Website: डोमेन और होस्टिंग के बाद आती है वेबसाइट जंहा आप लोगो को अपनी इनफार्मेशन देना या दिखाना चाहते है इसे आप आपकी ऑनलाइन दुकान भी बोल सकते है जंहा आप लोगो को आपके प्रोडक्ट के बारे में पता चलेगा !
  3. Content: कंटेंट की बात करे तो ये SEO के लिए बहुत जरूरी है यदि आपकी वेबसाइट पे अच्छा कंटेंट नहीं है तो आपके SEO का भी कोई मतलब नहीं है कंटेंट जिसको आप SEO की जान कह सकते है कंटेंट वह जो लोगो को दिख रहा है जैसे की आप इस वेबसाइट पे सही इनफार्मेशन को कह सकते है!

SEO क्यों जरुरी है

जैसा की आप भी इस बात को समझेंगे की सर्च इंजन पर आप सर्च करते है और जो सबसे पहला रिजल्ट है उसको ही ओपन करते है अगर उस रिजल्ट में आपको आपके उपयुक्त जानकारी मिल गयी है तो आप दूसरे रिजल्ट को नहीं देखेंगे!

ऐसा कह सकते है की सर्च इंजन के पांच रिजल्ट को सबसे ज्यादा ओपन किया जाता है  और सर्च करने वाला 5 वेबसाइट ही विजिट करेगा अगर उस रिजल्ट में पूरी जानकारी नहीं मिली तब जाकर कही 6 वेबसाइट का नंबर ata  है!

ऐसा कहा जाता है की अगर आपको कुछ छुपाना है तो आप उसे  सर्च इंजन के सेकंड पेज पर दाल दीजिये क्योंकि बहुत ही कम लोग सेकंड पेज विजिट करते है 

  • अगर आप बिज़नेस ओनर है या फिर ब्लॉगर है या कोई भी वेबसाइट बनाना चाहते है या आप ऑनलाइन आना चाहते है इसका मतलब है आप  ट्रैफिक चाहते है तो इसके लिए आपको SEO बहुत जरूरी है 
  • SEO के बिना आपकी वेबसाइट कुछ भी नहीं है अगर आप SEO नहीं करना चाहते है और आपको फ़र्स्ट पेज पे भी आना है तो आपको उसके लिए गूगल या अन्य सर्च इंजन को पैसे देने होंगे तभी आप ट्रैफिक ला पाएंगे 

नंबर वन कौन नहीं आना चाहता अगर आप गूगल के फ़र्स्ट पेज पे आ गए इसका मतलब है आपके ब्रांड की वैल्यू बढ़ गयी और ऐसे में यह कहना ठीक होगा वही बिकेगा जो गूगल के फ़र्स्ट पेज पे है वही तो बिकेगा 

आप @Praveen_Ratlami वेबपेज पर यह पोस्ट What is SEO in Hindi में पढ़ रहे है!

Search Engine क्या होता है

सर्च इंजन भी एक वेबसाइट ही है मैं ऐसा इसलिए कह रहा हूँ क्योंकि जैसे की मेने आपको ऊपर बताया है की डोमेन, तो गूगल पे आप कुछ सर्च करते है तो वो। कॉम एड्रेस पर ओपन होता है 

लेकिन इसे सर्च इंजन इसलिए कह सकते क्योंकि ये एक इनफार्मेशन रिजल्ट प्रोवाइड करने में मदद करता है 

सर्च इंजन में एल्गोरिथ्म का योगदान होता है ये एक ऐसा प्रोसेस होता है जो की यूज़र को सही जानकारी देने में सहायक होता है 

मान लीजिये अपने कुछ सर्च किया लेकिन गूगल के पास बहुत सी जानकारी है लेकिन वो आपको कीवर्ड के हिसाब से रिसर्च करके सही जानकारी बहुत जल्दी दे देता है ऐसा उसके एल्गोरिथ्म के फ़ास्ट काम करने के कारण होता है 

हर सर्च इंजन के काम करने की एक अलग टेक्निक्स  अल्गोरिथम होता है लेकिन सबसे अछि अल्गोरिथम गूगल की मानी जाती है इसके अलावा सर्च इंजन तीन स्टेप्स में काम करता है  

  1. Crawling  
  2. Indexing 
  3. Ranking 

जैसे की मेने कहा था इस ब्लॉग में कुछ भी नहीं छूटेगा तो चलिए अब SERP के बारे जानते है

SERP: SERP का मतलब है सर्च इंजन रिजल्ट पेज जो की हर सर्च इंजन का होता है सर्प को समझे तो आपके कीवर्ड के सर्च करने पे जो रिजल्ट 10 रिजल्ट शो हुए है उस पेज को Search Engine Result Page कहते है

आप @Praveen_Ratlami वेबपेज पर यह पोस्ट What is SEO in Hindi में पढ़ रहे है

Types of SEO in Hindi

On-Page SEO: ऑन-पेज SEO वो प्रोसेस है, जिसमे आप अपनी वेबसाइट के लिए करते है. वो भी गूगल के अल्गोरिथम को ध्यान में रख कर करना होता है!

उदाहरण के तोर पर समझे तो आपका एक शो रूम है वह कैसे दीखता है उसमे लाइटिंग कैसी है आप उसे कैसे साफ़ रखते है आपके कस्टमर को अच्छा लगे वो सभी काम आप करते है वैसे ही वेबसाइट के ऊपर भी यही करना होता है या उससे बढ़कर! 

लेकिन शो रूम में सिर्फ आपको कस्टमर के लिए करना होता है वही वेबसाइट के लिए आपको गूगल और कस्टमर के लिए करना होता है अगर अपने सर्च इंजन को खुश कर दिया इसका मतलब है आपका कस्टमर खुश हो गया इसको आप माने या न माने ये बिलकुल सच है 

On-page SEO की बार करे तो इसमें २०० रैंकिंग फैक्टर्स है लेकिन हमें कुछ का ही ध्यान रखना होता है सिर्फ इनको भी अपने फॉलो कर लिया तो भी आप SEO की इस जंग को जीत सकते है  तो चलिए बिना देरी किये उन्हें भी जानते है 

Title Tag: किसी भी वेबसाइट पेज में बहुत से टैग्स होते है जिसमे पहला टाइटल टैग होता है जो की रिजल्ट पेज पे आपके उस पेज के अंदर की जानकारी एक sentence शब्द में समझाना है ये सर्च करने वाले और सर्च इंजन दोनों के लिए बहुत जरूरी है और इसी टाइटल में में आपके उस पेज का मैं कीवर्ड होता है या उसे ही आपका कीवर्ड कह सकते है आपके पेज का टाइटल टैग 65 से 75 अक्षर का होना चाहिए इससे ज्यादा नहीं 

Permalink: पर्मालिंक SEO में एक बहुत बड़ा इंडिकेटिव फैक्टर है जिसमे आपको मैन कीवर्ड को डाल कर बनाना चाहिए! पर्मालिंक हमेशा छोटा होना चाहिए जो आपके वेबसाइट को रैंक करने में मदद करता है! इसमें आपको स्टॉप कीवर्ड्स  इस्तेमाल नहीं करना चाहिए जैसे की “a”, “an”, “the”, “and” आदि 

Meta Description Tag:  ये टैग भी SEO में बहुत रोले रखता है इसमें आपको अपने पेज को 150 से 175 कैरेक्टर्स में कीवर्ड के साथ समझना होता है की ये पेज क्या इनफार्मेशन देने वाला है अगर आपके टैग्स अच्छे से लिखे है तो आपकी ओपनिंग रेट बढ़ जाती है!

Alt Tag: इस टैग को इमेज टैग भी कहा जाता है क्योंकि ये टैग आपकी वेबसाइट में इमेज के बारे में सर्च इंजन को बताता है आपको इमेज अपलोड करते वक़्त ऑल्ट टैग जरूर देना चाहिए 

Internal linking: आपके वेबसाइट के सारे पेजेज आपस में इंटरनली लिंक्ड होना चाहिए ताकि जब सर्च इंजन का स्पाइडर क्रॉल करने आये तो वो आपके सरे पेज पर विजिट क्र पाए ये भी एक इम्पोर्टेन्ट फैक्टर है 

Heading: किसी भी ब्लॉग या आर्टिकल में हैडिंग बहुत जरुरी है अगर इसमें कोई दिक्कत है मतलब आपके SEO पे प्रभाव पड़ता है किसी भी पेज में मुख्यत H1, H2, H3, H4, H5, H6 ये हैडिंग होती है लेकिन पुरे ब्लॉग में एक बार ही ह१ का होना चाहिए 

Keyword: आपको आपके वेब पेज में कीवर्ड को अच्छे से टारगेट करना चाहिए ताकि उस कीवर्ड के हिसाब से सर्च इंजन आपको रैंकिंग दे पाए 

आप @Praveen_Ratlami वेबपेज पर यह पोस्ट What is SEO in Hindi में पढ़ रहे है

On-Page SEO कैसे करे

Website Speed: किसी भी वेबसाइट की स्पीड सर्च इंजन से ज्यादा उसके ओपेनिंग रेट को बढ़ने में मदद करती है एक सर्वे के हिसाब से वेबसाइट स्पीड ३ से ५ सेकंड होनी चाहिए उससे ज्यादा नहीं क्योंकि कोई भी व्यक्ति ज्यादा लोडिंग होने पर वापिस चला जाता है 

Off-Page SEO: ऑफ पेज SEO वह है जो आपकी वेबसाइट को छोड़ कर दूसरी अन्य वेबसाइट से ट्रैफिक और रैंकिंग फैक्टर को बढ़ने में मदद करता है  इस टेक्निक में आपको दूसरी वेबसाइट से लिंक प्राप्त करनी होती है किसी भी वेबसाइट के लिए जितना ऑन-पेज SEO जरूरी है उतना ही ऑफ- पेज SEO 

ऑफ पेज से आपकी पेज अथॉरिटी, गूगल की नजर में आपकी वेबसाइट का ट्रस्ट और रेपुटेशन इनक्रीस होती है इस टेक्निक में आपको आपकी वेबसाइट पे किसी प्रकार का बदलाव नहीं करना होता है और ऑफ-पेज SEO एक लगातार चलने वाला प्रोसेस है  

ऑफ-पेज SEO में बहुत सी टेक्निक्स है चलिए उनमे से कुछ की इस ब्लॉग में कवर करते है 

Off-Page SEO कैसे करे

  1. Search Engine Submission: इस प्रोसेस में आपको अलग अलग सर्च इंजन पे अपनी वेबसाइट को सबमिट करनी होती है जैसे की आप अभी गूगल पर है तो आपको Yahoo, Bing इंडेक्स अदि पर भी आपकी वेबसाइट पर सबमिट करना होगा  
  2. Social Sharing: इसमें आपको अपनी वेबसाइट के लिंक को अलग अलग सोशल मीडिया जैसे फेसबुक, इंस्टाग्राम, लिंकेडीन, पिंटरेस्ट, जैसी साइट्स पे क्रिएटिव पोस्ट बना कर शेयर करनी होती है 
  3. Blog Commenting: इसमें आपको अपनी वेबसाइट की लिखे किसी दूसरी वेबसाइट के ब्लॉग पर जाकर कमेंट में अपना लिंक देना होता है जिससे आपकी वेबसाइट पे ट्रैफिक अत है और सर्च इंजन में विसिब्लिटी बढ़ती है 
  4. Q & A Submission: इस प्रोसेस में आपको Q&A वेबसाइट पे जाकर कुछ क्वेश्चन का जवाब देकर आपके वेबसाइट की लिंक डालनी होती है ये सबसे कारगर तरीका है ज्यादा ट्रैफिक लेन का 
  5. Guest post Submission: इसमें आपको हाई डा वाली वेबसाइट पे जा कर उनके लिए एक अच्छा सा ब्लॉग लिख कर सबमिट करने के लिए लिखना होता है जंहा से आपको एक अच्छी बैकलिंक मिलती है और ढेर सारा ट्रैफिक भी मिलता है 
  6. Profile creation: इसमें आपको बहुत सारी प्रोफाइल क्रिएशन वेबसाइट पे जा कर प्रोफाइल बनानी होती है जिससे आपको वह लिंक मिलती है ये सबसे आसान तरीका है 
  7. Image Submission: इस प्रोसेस में आपको कुछ इमेज जो आपके वेबसाइट को रिप्रेजेंट करती हो उनको इमेज सबमिशन वेबसाइट पे सबमिट करनी होती है 
  8. PDF Submission: इसमें आपको पीडीऍफ़ बना कर जिसमे आपके बिज़नेस या ब्लॉग को एक्सप्लेन करती हो उनको पीडीऍफ़ सबमिशन वेबसाइट पे सबमिट करना होता है

Local SEO क्या है? What is Local SEO in Hindi

लोग अक्सर इस सवाल का जवाब पाने को आतुर होते है की लोकल SEO क्या है तो में ये मान सकता हु की आप SEO को समझ गए होंगे इसका मतलब है अब मुझे आपको लोकल शब्द को समझने में आसानी होगी लोकल से तात्पर्य है लोकेशन या फिर कह सकते है आप जंहा रहते है उस शहर का मार्केट!

आपको किसी काम से किसी और शहर जाना है और आप उस शहर के बारे में कुछ भी नहीं जानते लेकिन जैसा की आप सभी जानते है आज इंटरनेट का युग है तो आप सर्च इंजन पे जा कर सर्च करोगे “होटल इन पुणे” जो लोकल रिजल्ट आपको दिखेगा वो कहलाता है लोकल लिस्टिंग और उस लोकल लिस्टिंग में ऊपर आने की भाग दौड़ लोकल SEO कहलाती है

लोकल SEO छोटे व्यवसायों के लिए अधिक कारगर है क्योंकि इसमें आपको वेबसाइट की आवश्यकता नहीं होती है ये गूगल का लोकल बिज़नेस को प्रमोट करने का सबसे अच्छा प्लेटफॉर्म है इसने आपको बिना पैसे खर्च करके ऑनलाइन आने का अवसर दिया है 

उदाहरण के तोर पर लोकल SEO को समझे तो मान ली जिये आपको एक गारमेंट विक्रेता है और कोई व्यक्ति कपड़े खरीदने चाहता है लेकिन उसे ये नहीं पता की वह खरीदे कहा से लेकिन उसने सर्च किया “गारमेंट शॉप नियर मी” और अपने Google my business पर लिस्ट किया हुआ है तो वो आपको आसानी से ढूंढ पायेगा जिससे आपकी सेल्स बढ़ेगी 

आप @Praveen_Ratlami वेबपेज पर यह पोस्ट What is SEO in Hindi में पढ़ रहे है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *